लोकतंत्र के चार स्तम्भ कौनसे हैं?

Loktantra ke char stambh

लोकतंत्र के चार स्तम्भ ( Loktantra ke char stambh ) देश की जनता की आवाज बनने वाली पत्रकारिता को लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ माना जाता है। देश की आजादी के बाद पत्रकारिता ही एक ऐसा स्तम्भ है जो जनता की आवाज को सरकार तक पहुचाती है। क्या आपको पता है की लोकतंत्र के चार स्तम्भ कौनसे है ?

इस आर्टिकल में इसी के बारे में पूरी जानकारी देने का हम प्रयास कर रहे है। आईये जानते है की लोकतंत्र के चार स्तंभ कौनसे है? साथ ही यह भी समझते है की लोकतंत्र के उन चार स्तंभों में से सबसे महत्वपूर्ण कौनसा है। 

लोकतंत्र के चार स्तंभ कौन-कौन से हैं?

आगर हम सीधी भाषा में इसे समझने का प्रयास करे तो हम यह जान सकते है कि लोकतंत्र के यह वो सबसे महत्पूर्ण चार स्तंभ है। इन में से कोई एक भी अगर धराशायी होता है तो इसमें लोकतंत्र का ही खतरा है। 

लोकतंत्र के चार स्तम्भ-

यह चार स्तम्भ है जो देश के लोकतंत्र के चार स्तम्भ माने जाती है। 

विधायिका

यह लोकतंत्र का पहला स्तम्भ माना जाता है। यह देश में कानून बनाने का काम करती है। विधायिका में लोगो द्वारा चुने गये महत्वपूर्ण व्यक्ति विधायिका के रूप में कानूनों का निर्माण करते है। यह ऐसे कानून होते है जो शासक और प्रजा, दोनों द्वारा मान्य होते है। 

कार्यपालिका

लोकतंत्र के चार स्तंभों में से यह भी एक महत्वपूर्ण स्तम्भ है। कार्यपालिका का काम मुख्य रूप से विधायिका द्वारा बनाये कानूनों को लोगो तक पहुचना और उसी कानूनों को बरक़रार रखना कार्यपालिका का काम है। 

न्यायपालिका

देश में न्यायपालिका भी एक महत्वपूर्ण स्तम्भ है जिसका काम होता है कानूनों की व्याख्या करना और उन्ही कानूनन का अगर कोऊ उलंघन करे तो उन्हें दंड देना। कानूनों के उलंघन करने पर सजा का भी प्रावधान है। 

पत्रकारिता

पत्रकारिता, जो जनता की आवाज बनती है और उसी आवाज को लोगो तक पहुचाता है। मीडिया देश में स्वतंत्र रूप से काम करती है। मीडिया को लोकतंत्र के एक महत्वपूर्ण स्तम्भ के रूप में पहचान मिली है। पत्रकारिता का काम ऊपर के तीनों स्तंभों के बारे में जनता को जानकारी देना की यह तीनों सही से काम कर रहे है या नही इत्यादि। 

यह चारों वो स्तम्भ है जो मिलकर देश में एक मजबूत लोकतंत्र का निर्माण करती है। 

Final Words 

इस आर्टिकल में आपको हमने लोकतंत्र के चार स्तम्भ ( Loktantra ke char stambh ) के बारे में समझाने की कोशिश की है। उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आएगा। अच्छा लगे तो इस आर्टिकल को शेयर जरुर करे।

यह भी पढ़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

International Tribal Day : Day of the World’s Indigenous Peoples राजस्थान का कश्मीर कहा जाता है गोरमघाट झरना राजस्थान का मेघालय के नाम से जाना जाता है : भील बेरी झरना