हम भारतीय

सब कुछ हिंदी में

Telemarketing क्या होता हैं ?

Telemarketing kya hota hai : नमस्कार दोस्तों, आपने इन्टरनेट की दुनिया में Telemarketing का नाम तो सुना होगा ? अगर आप भी इस कंप्यूटर term और बिज़नस term को पहली बार सुन रहे हैं तो आप सही जगह पर आये हैं. 

अगर आपके मन में यह सवाल उठ रहे हैं की Telemarketing क्या हैं ? Telemarketing कैसे काम करता हैं ? आपके इन्ही सवालों का जवाब इस लेख के माध्यम से दिया जाएगा. 

Printing business kaise kare ?

चलिए जानते है इस के बारे में की आखिर What is telemarketing in hindi ? 

Telemarketing क्या होती हैं ? | What is telemarketing ?

टेलीमार्केटिंग का सीधा सा मतलब समझे तो यह एक प्रकार से वो प्रोसेस होता हैं जिसमे आप अपने ग्राहक की डिमांड और उनकी आवश्यकताओं को आसानी से समझते हैं की वास्तव में आपका कस्टमर आपसे क्या चाहता हैं? 

किसी भी बिज़नस के लिए टेलीमार्केटिंग बेहद ही जरुरी होता हैं. अगर आप कोई बिज़नस करते हैं जिसमे आप कोई सामान या प्रोडक्ट बेचते हैं कोई सर्विस बेचते हैं तो ऐसे में यह जानना बेहद जरुरी हैं की लोग वास्तव में क्या चाहते हैं. उसकी को साधारण भाषा में Telemarketing कहा जाता हैं.

इसमें मुख्य रूप से यह निम्न बिंदु जुड़े होते हैं. 

  • किसी भी व्यवसाय को प्रमोट करने के लिए विज्ञापन की जरूरत होती हैं, तो उनको मैनेज कैसे करना हैं वो इसमें शामिल होता हैं. 
  • अपने पुराने कस्टमर को जो आपके साथ पहले से जुड़े हुए हैं उनको कॉल कर के उनको नये – नये ऑफर देना और उसने अपने बिज़नस के बारे में फीडबैक लेना. 
  • इस प्रकार की मार्केटिंग में एक विशेष प्रकार की स्किल की जरूरत होती हैं जैसे आपको अपने कस्टमर से क्या कहना हैं, उनको किस तरह के ऑफर देने हैं इतियादी. 

Telemarketing का महत्त्व | Importance of telemarketing

सामान्य भाषा मे telemarketing का मतलब समझे तो हमे यह समझ आता हैं की यह हमारे बिज़नस के लिए बेहद जरुरी हैं जिसके कुछ कारण हैं. Telemarketing के महत्त्व को हम इन निम्न बिन्दुओं से जान सकते हैं. 

  • डेटाबेस बनाने में मददगार – किसी भी बिज़नस के लिए सबसे जरुरी होता हैं कस्टमर को जोड़े रखना और उनके साथ संपर्क करने के आसान तरीको के बारे में जानकारी इकठ्ठा करना. टेलीमार्केटिंग का यह भी एक बड़ा फायदा हैं जिसकी मदद से आप अपने ग्राहकों का डेटाबेस बना सकते हैं जो की किसी भी बिज़नस के लिए जरुरी हैं. 
  • ग्राहकों के साथ सम्बन्ध बनाये रखना – Telemarketing में आप अपने ग्राहकों के साथ बात करते हैं जिससे आप उन ग्राहकों को अपनी सर्विस के बारे में जानकारी देते रहते हैं और उन्हें गाइड करते रहते हैं. इस मार्केटिंग की मदद से आप अपने ग्राहकों के साथ संपर्क और उनके साथ सम्बन्ध बनाने में आप कही न कही मददगार हो सकते हैं. 
  • क्रॉस सेलिंग और मार्किट रिसर्चTelemarketing करने के एक और बड़ा फायदा हैं की आप इसकी मदद से अपने ग्राहकों से बात कर के उनके साथ cross selling कर सकते हैं और उनसे अपने प्रोडक्ट एक लिए ग्राहकों से फीडबैक ले सकते हैं. यह आपको आपके प्रोडक्ट के लिए मार्केटिंग रिसर्च में मदद करता हैं.
  • ग्राहकों को लुभाने के लिए नये ऑफर बनाना – Telemarketing करने के साथ आप अपने ग्राहकों को अपने नये ऑफर तो देते ही हैं, इसके साथ ही आप अपने ग्राहकों को उनके हिसाब से उसने लिए नये – नये ऑफर बना सकते हैं. 
  • रोयल्टी में वृद्धि – ग्राहकों से सीधे बात करने से आपके बिज़नस को फायदा होता हैं और इससे आपके बिज़नस और प्रोडक्ट की रोयल्टी में वृद्धि भी देखने को मिलती हैं. 
  • सुचना का इकठ्ठा होना – टेलीमार्केटिंग का एक और अच्छा फायदा यह हैं की इससे आपके प्रोडक्ट के बारे आपके ग्राहक क्या सोचते हैं उसकी जानकारी इकठ्ठा होती हैं इसके साथ ही आपके ग्राहकों की जानकारी भी इकठ्ठा होती है. 
  • ग्राहकों के मध्य विश्वास बनाना – टेलीमार्केटिंग के जरिये एक बिज़नस डेवलपर अपने ग्राहकों का अपने प्रोडक्ट के प्रति विश्वास बनाने में सफल हो पाता हैं. कुछ हद तक यह काफी फायदेमं होता हैं. 
  • परिणाम काफी अच्छे – टेलीमार्केटिंग के परिणाम भी काफी अच्छे होते है. इससे आप अपने ग्राहकों के मध्य सम्बन्ध बना सकते हैं जिसके बाद आपके प्रोडक्ट को लोगो तक पहुचाना आसान हो जाता हैं. 

Telemarketing कैसे करे ? | Telemarketing procedure 

टेलीमार्केटिंग करने के किसी ही कंपनी के पास सबसे पहले अपने ग्राहक की जानकारी होना बेहद जरुरी हैं. जैसे अगर कोई कंपनी कपडे बेचती हैं तो उस कंपनी के पास अपने सम्बंधित ग्राहकों की जानकारी का होना जरुरी हैं. 

यह जानकारी कंपनी खुद से इकठ्ठा कर सकते हैं, जैसे अपनी पुराने कस्टमर को कॉल कर के या कोई विज्ञापन करके. या दूसरा पॉइंट यह हैं की कंपनी ग्राहकों का डाटा किसी दुसरे कंपनी से खरीद सकते हैं. 

इसके बाद कंपनी अपने ग्राहकों को फ़ोन करती हैं. इसमें कंपनी अपने ग्राहकों को सामान्य तौर पर 2 बार कॉल करती हैं जिसमे पहली बार कंपनी अपने ग्राहकों से उनकी जानकारी के बारे में जानकारी लेता हैं और उसके अनुसार ऑफर बना कर दूसरी बार वह अपने ग्राहकों को कॉल करता हैं उसे अपने ऑफर के बारे में बताता हैं. 

इसके बाद कंपनी अपने ग्राहकों को अपने प्रोडक्ट और सेवा के बारे में बताती हैं और अपनी प्रोडक्ट को बेचती हैं.

यह टेलीमार्केटिंग का साधारण सा फंडा. 

Telemarketing कौन करता हैं ? | Who does telemarketing ?

अब बात आती हैं की यह टेलीमार्केटिंग कौन करता है और किसको यह करना चाहिए ? वैसे तो टेलीमार्केटिंग कोई भी बिज़नस प्रोफेशनल और कम्पनी इसका इस्तेमाल का करती हैं परन्तु कुछ ख़ास लोग और कंपनी हैं जो इस टेलीमार्केटिंग का इस्तेमाल करती हैं जैसे – 

  • चुनाव के समय नेता और कुछ पोलिटिकल पार्टी भी इस प्रकार की मार्कटिंग अपना प्रचार – प्रसार करने के लिए करती हैं. 
  • चैरिटेबल संसथान भी इस मार्केटिंग का इस्तेमाल करती हैं, ऐसे संस्थान जो कोई अच्छा कम करती हो तो वो इस भी इस मार्केटिंग कंपनी का इस्तेमाल करती हैं. 
  • इन सब के अलावा मार्केटिंग रिसर्च करने वाली और सर्वे करने वाली कंपनी भी इस टेलीमार्केटिंग का इस्तेमाल करती हैं. 

Telemarketing के उद्देश्य | Objectives of telemarketing ?

टेलीमार्केटिंग करने के कुछ उद्देश्य निम्न हैं, जो हमे टेलीमार्केटिंग करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं. 

  • टेलीमार्केटिंग के जरिये कोई भी कंपनी अपने ग्राहकों के साथ जुडी हुई रह सकती हैं. 
  • कंपनी को अपने ग्राहकों की मांग को समझने जानने के लिए भी इस तकनीक का इस्तेमाल करते हैं. 

निष्कर्ष

इस लेख में आपको telemarketing kya hota hai ? के बारे में बताया गया हैं. उम्मीद करता हूँ आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी.