सबसे महँगी मुद्रा कौनसी है ?

Sabse mahangi currency

Sabse mahangi currency ( सबसे महँगी मुद्रा ) जिंदगी में पैसों की बात करे तो यह न सिर्फ हमे खान पान के चीज दिलाती है, बल्कि जीवन निर्वाह करने की हर वो साधन हमे मुहैया कराती है। आज सायद ही ऐसा कोई चीज होगा जो के पैसों के बदले न मिलता होगा। ऐसे में आप के दिमाग में सबसे पहले माँ बाप की बात याद आती होगी, मगर मजे की बात बताये जापान के लोग इतने अकेले होते है कि वो पैसे देकर भाड़े में माँ बाप से लेकर भाई बहन और गर्लफ्रेंड तक किराए में लेते है।

आज हम आपको दुनिया के सबसे महंगी तथा हाई वैल्यू वाली पैसे की बारे में बताएँगे जिसके बारे में आप पहले सायद ही सुना होगा। चलिये फिर जानते है-

दुनिया की सबसे महंगी करेंसी कौनसी है?

Kuwaiti dinar दुनिया की सबसे महंगी मुद्रा है। यह British Pound और US Dollar से भी ज्यादा महंगी है। आज के समय Kuwaiti Dinar भारतीय मूल्य में 254.35 पैसा है, जब की US dollar रुपया के मुकावले 78 रुपये है।

Kuwait के अलावा dinar को इराक, तुनिशिया, लीबिया, जॉर्डन, बहरैन जैसी देश करती है। लेकिन उन सबसे कुवैत के दीनार सबसे महंगे तथा शक्तिशाली है।

आप सबको यह जानकर हैरानी होगी की 1960 तक कुवैत जैसे देश भारत के रुपये का इस्तेमाल करते थे, पर मनी लॉन्ड्रिंग के चलते 1961 से कुवैत ने अपनी खुदकी करेंसी छापनी सुरु की। तब तक भारत के पैसे कुवैत के मुकावले ज्यादा हुआ करते थे, क्यों के उस वक़्त तक न तो कुवैत में तेल के कुएं को खोज निकाला गया था और न ही कुवैत के पास कोई सोना का भंडार था।

कैसे बना कुवैती दीनार दुनिया की सबसे महंगी करेंसी?

1938 में तेल के कुएं को खोजे जाने बाद कुवैत ने 1961 से अपनी खुद की करेंसी दीनार छापनी लगी। अपने बेशुमार आयल रिज़र्व के साथ यह करेंसी समय के साथ साथ बढ़ता चला गया। इसके साथ साथ बढ़ती महंगाई ने भी दीनार को काफी बढ़ावा दिया है। महंगाई के वजह से आज पाकिस्तान की रुपये दीनार के मुकावले 668 के आसपास है।

आज कुवैत तेल के साथ साथ प्राकृतिक गैस के दुनिया भर में सबसे बड़ा निर्यातक है। इसी कारण कुवैती दीनार की मांग दुनिया भर में सब से ज्यादा है। अगर आप लोगो को अर्थनीति की थोडी सी भी समझ हो तो आप समझ ही चुके होंगे कि डिमांड और सप्लाई के वजह से कुवैती दीनार इतना हाई पर है। सिर्फ यही नहीं कुवैत अपने तेल और गैस की कमाई को बहतर तरीके से मैनेज करने में भी सक्षम है, वरना वेनेज़ुएला जैसे देश की पास भी बहत सारा तेल है मगर उसकी करेंसी आज कूड़े की सामान है।

यह भी पढ़े – दुनिया का सबसे अच्छा एअरपोर्ट

क्या कुवैती दीनार की कीमत कभी कम होगा?

यह सवाल काफी पेचीदा है। यह समय के ऊपर निर्वर करता है। मगर इसमें कोई शंका नहीं की दीनार में मूल्य में जरूर गिरावट आएंगे, पर वो समय अभी काफी दूर है।

कुवैत जैसे देश रेगिस्थान में बसे होने के कारण खेती के संभावना न के बराबर है। यह अपने खानपान से लेकर पानी तक हर चीज दूसरे देशों से आयात करते है। जिसके वजह से इनके एक्सपोर्ट इम्पोर्ट डेफिसिट भी काफी हाई है।

कुवैत अब अपने देश के अर्थनीति को हमेशा से बरक़रार रखने के लिए वे टूरिस्ट डेस्टिनेशन की और रुख मोड़ रहे है। देखने वाली बात यह है कि तेल की डिपाजिट खत्म होने के बाद यह देश अपने मुद्रा के मूल्य को बरक़रार रखने के लिए क्या क्या करता है?

आपने क्या सीखा ?

हमे आशा है की आपको Sabse mahangi currency ( सबसे महँगी मुद्रा ) विषय के बारे में दी गई जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर आपको इस विषय के बारे में कोई Doubts है तो वो आप हमे नीचे कमेंट कर के बता सकते है। आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा।

यह भी पढ़े

Leave a Reply

Your email address will not be published.

International Tribal Day : Day of the World’s Indigenous Peoples राजस्थान का कश्मीर कहा जाता है गोरमघाट झरना राजस्थान का मेघालय के नाम से जाना जाता है : भील बेरी झरना