अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा कब मनाया जाता है?

Follow us on Twitter to get more stuff there

International mother language day in hindi नमस्कार दोस्तों, भाषा वह साधन है जिसके द्वारा हम अपने विचार को दूसरो तक आदान प्रदान कर सकते है। भाषाएं हमारी भौतिक और अभौतिक विरासत को संरक्षित और विकसित करने का सबसे शक्तिशाली साधन हैं। 

मातृभाषा के फैलाव को बढ़ावा देने के लिए सभी कदम न केवल भाषा की विविधता और बहुभाषी शिक्षा को इनकरेज करने के लिए बल्कि दुनिया भर में भाषा की सांस्कृतिक परंपराओं के बारे में पूरी जागरूकता विकसित करने और समझ और संवाद के आधार पर एकजुटता को प्रेरित करने के लिए भी काम करेंगे।

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा कब मनाया जाता है?

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस 21 फ़रवरी को मनाया जाता हैं. अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस भाषाई और सांस्कृतिक विविधता के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने और 21 फरवरी को आयोजित एक एक इंटरनेशनल उत्सव है। यह पहली बार UNESCO द्वारा 17 नवंबर सन 1999 को घोषित कर दिया गया था और इसे औपचारिक रूप से UN असेंबली द्वारा मान्यता दी गई थी।

Also read : विश्व ग्लोबल फॅमिली दिवस

मातृभाषा से आप क्या समझते है?

आपकी मातृभाषा वह भाषा है जिसे आप बचपन से ही बोलते आय है। ज्यादातर लोगों के लिए यह सिर्फ एक भाषा है लेकिन बहुभाषी परिवारों में बच्चे एक साथ दो भाषा सीख सकते हैं। हालांकि कुछ देशों में, राजनीतिक या सांस्कृतिक कारणों से एक विशेष भाषा को प्राथमिकता दी जा सकती है।

आप यह भी कह सकते है की किसी की मूल भाषा को मातृभाषा कहते है। इसकी दूसरी परिभाषा भी निकल सकती है,एक भाषा जिससे दूसरी भाषा निकलती है उसे मातृभाषा बोल सकते है।

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा क्या होती है?

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस भाषा संबंधी और सांस्कृतिक विविधता के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने और बहुभाषावाद को बढ़ावा देने के लिए 21 फरवरी को आयोजित एक इंटरनेशनल वार्षिक उत्सव है।

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस का संक्षिप्त इतिहास

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाने का विचार बांग्लादेश की पहल थी। 21 फरवरी को 1999 में यूनेस्को द्वारा अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के रूप में घोषित किया गया था। यह 21 फरवरी 2000 से दुनिया भर में मनाया जा जाता है। यह घोषणा बांग्लादेशियों द्वारा किए गए भाषा आंदोलन को श्रद्धांजलि के रूप में सामने आई।

सन 1947 में जब पाकिस्तान बनाया गया था तब उसके ज्योग्राफिकल रूप से दो अलग-अलग हिस्से थे एक पूर्वी पाकिस्तान (वर्तमान में बांग्लादेश के रूप में जाना जाता है) और पश्चिमी पाकिस्तान (वर्तमान में पाकिस्तान के रूप में जाना जाता है)। 

दोनों भाग संस्कृति और भाषा की दृष्टि से एक दूसरे से बहुत अलग अलग थे।  भारत ने इसके दोनों भागों को भी बीच में विभाजित कर दिया था।

सन 1948 में पाकिस्तान की सरकार ने उर्दू को पाकिस्तान की एकमात्र राष्ट्रीय भाषा घोषित किया, भले ही बंगाली या बांग्ला ईस्ट पाकिस्तान और वेस्ट पाकिस्तान को मिलाकर ज्यादातर लोगों द्वारा बोली जाती थी। 

ईस्ट पाकिस्तान के लोगों ने विरोध किया क्योंकि ज्यादातर आबादी ईस्ट पाकिस्तान से थी और उनकी मातृ भाषा बांग्ला थी। उन्होंने उर्दू के अलावा बांग्ला को भी राष्ट्रीय भाषाओं में से चुनने की मांग की।

इस लड़ाई के लिए बहुत सारी रैलियां निकाली और 21 फरवरी सन 1952 को पुलिस ने हंगामा रोकने के लिए रैलियों पर गोलियां चलाईं जिसमे से बहुतों घायल हुए तो वही बहुतों को अपनी जान गवानी पड़ी। 

ये इतिहास की एक दुखद एक्सीडेंट था जहां लोगों ने अपनी मातृभाषा के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी। बहुत सारी कोसिसो के बाद बांग्लादेशी इंटरनेशनल मदरलैंग्वेज डे को अपने दुखद दिनों में से एक के रूप में सेलिब्रेट करते हैं। इंटरनेशनल मदरलैंग्वेज डे बांग्लादेश में एक राष्ट्रीय अवकाश है।

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस क्यों मनाया जाता है?

भाषाई और सांस्कृतिक विविधता और मल्टीलिंगुअल इंक्लूजन को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक साल 21 फरवरी को अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मानता है कि भाषाएं और मल्टीलिंगुअल को आगे बढ़ा सकते हैं और निरंतर विकास कर सकते है।

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस की थीम क्या है?

UNESCO सभी अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के लिए एक थीम चुनता है और अपने पेरिस मुख्यालय में संबंधित कार्यक्रमों को प्रायोजित करता है। सन 2008 में अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर अंतर्राष्ट्रीय भाषाओं का वर्ष start हुआ। 

यह भारत (India),रूस (Russia), फिलीपींस (Philippines) और कनाडा (Canada) आदि देशों में मनाया जाता है। सन 2020 का अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस एडिशन शांतिपूर्ण संवाद और सामाजिक समावेश को बढ़ावा देने में योगदान देगा। 2020 का विषय  सीमाओं के बिना भाषाएं है।

इस दिवस को बहुत सारे अवार्ड से भी नवाजा गया है। 

  • लिंगुआपैक्स (Linguapax Prize) पुरस्कार बार्सिलोना में लिंगुआपैक्स संस्थान द्वारा (IMLD) पर प्रतिवर्ष दिया जाता है। यह पुरस्कार भाषा की विविधता के संरक्षण और बहुभाषावाद को बढ़ावा देने में महान उपलब्धि को मान्यता देता है।
  • Ekushey Heritage Award

यह थी कुछ जानकारी International mother language day in hindi के बारे में.

Leave a Comment