वॉलीबॉल का मैदान कितना होता हैं ? 

Volleyball ka maidan kitna hota hai नमस्कार दोस्तों, खेल तो हम कई खेलते है जैसे क्रिकेट, फुटबॉल, कबड्डी, खोखो और वॉलीबॉल इतियादी। इन्ही खेलों को खेलने के लिए कम से कम एक खेल मैदान की जरूरत होती हैं। क्या आप जानते हैं की वॉलीबॉल का मैदान कितना होता हैं ? 

अगर नही तो आपको इस लेख में इसी के बारे में बताया जायेगा। 

Volleyball ka maidan kitna hota hai | वॉलीबॉल का मैदान कितना होता हैं ? 

वॉलीबॉल खेल का माप 18 मीटर x 9 मीटर होता है। वॉलीबॉल खेल के मैदान को एक मध्य रेखा द्वारा दो पालो में विभाजित किया जाता है। मैदान की सीमा रेखाओं की बात करें तो यह 5 सेंटीमीटर चौड़ी रखी गई है।

Also read भारत का राष्ट्रिय खेल कौनसा हैं ?

वॉलीबॉल खेल का क्षेत्रफल

अक्सर लोगों का प्रश्न होता है कि वॉलीबॉल खेल के मैदान कितना है। और इसको लेकर कई बार लोगों कंफ्यूज रहते हैं। कभी-कभी यह प्रश्न तो आपके जनरल नॉलेज के लिए भी लोग आमतौर पर पूछते हैं ,लेकिन बहुत से कम लोगों को इस प्रश्न का जवाब पता होता है? 

लोग यह कह कर अपना पल्ला झाड़ देते हैं कि मैं इस खेल को तो खेलता ही नहीं। इस वजह से मुझे इसकी जानकारी नहीं है ,जो कि सरासर गलत है ।आप किसी खेल से संबंध रखे या ना रखे लेकिन उसके बारे में आवश्यक जानकारी आपको निश्चित तौर पर पता होना चाहिए। नहीं तो इससे कभी आपको शर्मिंदगी उठानी पड़ सकती है। एक अच्छे जानकर होने के नाते हमें इसकी जानकारी अवश्य रूप से होनी चाहिए 

वॉलीबॉल खेल की शुरुआत

वॉलीबॉल का खेल लगभग 19वीं शताब्दी में अमेरिका  मूल का खेल है लेकिन इस खेल को आज के समय में लगभग हर जगह खेला जाता है। भारत के स्कूलों से लेकर नेशनल स्टेडियम में लगने वाले कैंपो का हिस्सा वॉलीबॉल खेल बन चुका है।

इस खेल की लोकप्रियता आप ऐसे समझ सकते हो कि इसे एशियन गेम्स और कॉमनवेल्थ जैसे अंतर्राष्ट्रीय खेलो के साथ साथ ओलिंपिक खेलों और पैन अमेरिकन खेलों का हिस्सा है। सोवियत यूनियन का जिक्र करे तो इसने अपना वर्चस्व स्थापित कर लिया था धीरे धीरे  ब्राजील और चीन ने अपनी ताकत सभी के सामने इसी खेल के दम पर दिखाई थी।

वॉलीबॉल के खेल को अमेरिका में सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है इस खेल 1964 में ओलंपिक में शामिल किया गया था।

वॉलीबॉल खेल के मैदान का क्षेत्रफल

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि वॉलीबॉल खेल की माप 18 मीटर x 9 मीटर होती है ।वॉलीबॉल खेल के मैदान को एक मध्य रेखा द्वारा दो पालो में विभाजित किया जाता है ।मैदान की सीमा रेखाओं की बात करें तो यह 5 सेंटीमीटर चौड़ी रखी गई है। 

प्रत्येक पाले में मध्य रेखा से 3 मीटर दूर एक समांतर रेखा खींची जाती है ।इसी को ‘आक्रमण रेखा’ के नाम से भी जानते हैं। प्रत्येक पाले में सर्विस का क्षेत्रफल का जिक्र करे तो पिछली लाइन के दाहिने कोने की 20 सेंटीमीटर पीछे और लंबा बनाते हुए 15 सेंटीमीटर की दो रेखाओं से निशान बनाया जाता है। 

इस मैदान के मध्य भाग में पड़ा हुआ जाल  मुख्य तौर पर पुरुषों के लिए 9।50 मीटर लंबा और 1 मीटर चौड़ा और इसकी ऊंचाई 2।43 मीटर तक होती है। वहीं महिलाओं के लिए वॉलीबॉल जाल का जिक्र करें तो मुख्य तौर पर इसकी लंबाई 9-50 मीटर इसके साथ ही चौड़ाई 1 मीटर और ऊंचाई 2।43 मीटर तक की होती है।इस तरह से आपको वॉलीबॉल बाल खेल के मैदान की लंबाई चौड़ाई और ऊंचाई के बारे में पता चल गया होगा। 

वॉलीबॉल खेल में शामिल होने वाले खिलाड़ी

वॉलीबॉल के मैच में एक बारी में एक टीम की तरफ से 6 खिलाड़ी इस खेल को खेलते हैं। इसमें टॉस के लिए सिक्के को उछाला जाता है। और सबसे पहले कौन सर्व करेगा, इसका फैसला लिया जाता है। खिलाड़ी को बेसलाइन के पीछे से ही सर्व करना होता है। वहीं इसकी विरोधी टीम को इसके बाद केवल तीन पास में गेंद को वापसी तौर पर विरोधी को सौंपना होता है। 

सर्व को सबसे पहले उठाने वाला खिलाड़ी उसे पिच करने का नियम है। जिसे खेल की शब्दावली में पास या बंप सेट कहा जाता है।गेंद को छूने वाला दूसरा खिलाड़ी को सेटर कहते हैं।जो की गेंद को नेट के पास खिलाड़ी तक पहुंचाने का प्रयास करता है।इसमें गेंद को छूने वाला आखरी खिलाड़ी ‘स्पाइक’ कहलाता है।

यह थी कुछ जानकारी Volleyball ka maidan kitna hota hai के बारे में। 

Leave a Comment