पर्यायवाची शब्द किसे कहते है?

Follow us on Twitter to get more stuff there

Paryayvachi shabd kise kahate hain ( पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं ) हिंदी साहित्य तथा भाषा में कई तरह के शब्द होते है। बहतर तरीके से भाषा को सीखने, समझने तथा बोलने में यह सारे शब्द हमे बेहद मदत करते है। हिंदी हो या फिर किसी और भाषा शब्दों का बहतर ज्ञान से उस भाषा के बहतर समझ के साथ साथ उसके विकाश के भी राज खुलते है।

पर्यायवाची शब्द किसे कहते है?

एक ही सामान अर्थ वाले शब्द को हम पर्यायवाची शब्द कहते है। एक शब्द के पर्यायवाची शब्द एक या फिर उससे अधिक भी हो सकते है। रोजमर्रा के जिंदेगी में हम इसी तरह के कई सारे शब्दों के संपर्क में आते है, मगर सामान अर्थ होने के कारण हम उन्हें नजर अंदाज कर देते है। जैसे की अमर के कुछ पर्यायवाची शब्द है मृत्युंजय और अक्षय।

पर्यायवाची शब्द को हम समानार्थी शब्द के नाम से भी जानते है। जिसका मतलब होता है सामान+अर्थ। अतः सामान अर्थ बताने वाले हर वो शब्द पर्यायवाची शब्द कहलाती है।

पर्यायवाची शब्द के परिभाषा

पर्यायवाची शब्द को व्याकरण में कुछ इस तरह से बताया गया है।

– किसी शब्द को बताने के लिए दूसरे शब्दों का प्रयोग, जिनके मतलब सामान होता है उन्हें पर्यायवाची शब्द कहते है।

या फिर

– सामान अर्थ वाले दो या उससे अधिक शब्द जो के एक ही शब्द, बस्तु या फिर चीजों को दर्शाता हो उन्हें पर्यायवाची शब्द कहते है।

इससे हमें यह मालूम होता है कि पर्यायवाची शब्द के कई स्वरुप होने के वाबजूद उनके मतलब एक सामान ही होते है। उदाहरण स्वरूप – हवा के पर्यायवाची शब्द पवन, बायु अदि है। भले ही यह शब्द एक दूसरे से काफी अलग तथा इनके उच्चारण भी अलग अलग होते है फिर भी इनके मतलब एक सामान ही होता है।

पर्यायवाची शब्द  के प्रकार या भेद

बाकि शब्दो के तरह इसके संज्ञा तो है लेकिन इसके कोई प्रकार या भेद नहीं होते है। क्यों के पर्यायवाची शब्द या समानार्थी शब्द कोई निर्दिष्ट नियम से नहीं बनते है। जैसे की एक बस्तु को कई लोग भिन्न भिन्न नजरिये से देखते है, ऐसे ही पर्यायवाची शब्द के भिन्न भिन्न रूप होते है, जिनका सठीक अंदाजा लगाना मुश्किल है।

पर्यायवाची शब्द सिर्फ हिंदी ही नहीं बल्कि दुनिया के सभी भाषा में आप देख सकते है। क्यों के भिन्न भिन्न प्रान्तों में बाटे होने के कारण एक ही शब्द के भिन्न भिन्न शब्द निकल कर आते है।

कुछ पर्यायवाची शब्द के उदहारण

आकाश- गगन, अम्बर, शून्य, नभ, व्योम

सागर- समुद्र, उदधि, जलधि

पशु- मवेशी, जानवर, चौपाया

मनुष्य- आदमी, मानव, मानुष

फूल- पुष्प, सुमन, कुसुम, मंजरी, प्रसून

पुष्तक- पोथी, ग्रन्थ, बही, किताब

नाव – नौका, वेडा, तरी, डोंगी, पतंग, जलयान, जलपात्र, तरिणी

मंदिर- देवगृह, देवालय, देवस्थान

घर- गृह, भवन, आलय, निवास्, निकेतन, सदन, निलय, धाम

पृथ्वी- धरती, भूमि, धरा, भू, बसुधा, बसुंधरा, मही, मेदिनी, भूमंडल

अनाज- अन्न, धान्य, दाना

विद्यालय- पाठशाला, शिक्षालय, ज्ञानमंदिर, गुरुकुल, विद्यामंदिर, शिशुमंदिर, विद्यापीठ

सड़क- डागर, राह, मार्ग, पथ, रास्ता

पक्षी- चिड़िया, गगनचर, विहंग, नवचार, खग

दिन- दिवस, दिवा, बार, अह, वासर

रात- रात्र, रात्रि, रजनी, निशा, यामिनी, तमि, निशि, विभावरी, क्षणदा

समय –वेला, काल, घडी, वक़्त,

सुबह- प्रभात, अरुणोदय, सवेरा, भोर

अंतिम शब्द

हमारे इस लेख मे आपको Paryayvachi shabd kise kahate hain ( पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं ) के बारे मे बताया गया है। उम्मीद है आपको हमारा यह लेख पसंद आय होगा। इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे।

Leave a Comment