हम भारतीय

सब कुछ हिंदी में

हवा महल कहा हैं ? 

Hawa mahal kahan hai नमस्कार दोस्तों, हमारा राजस्थान धरती धोरा री के साथ – साथ वीरों की धरती के लिए भी जाना जाता हैं। इसके अलावा हमारा राजस्थान प्राचीन और मध्यकालीन सभ्यताओं के लिए भी जाना जाता हैं। 

राजस्थान में मध्यकाल के दोहरान कई ऐसी इमारतों का निर्माण किया गया था जो आज भी हमारे राजस्थान की शान में खड़ी हैं और जिसे हम हवा महल के नाम से जानते हैंइस लेख में आपको इसी के बारे में बतायेंगे। 

हवा महल कहा हैं ? 

हवा महल राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्तिथ हैं। हवा महल जिसे अंग्रेजी में The Palace Of Winds या The Palace Of Breezes जो की भारत की राजधानी दिल्ली से लगभग 300 किलोमीटर दूर जयपुर में स्थित एक महल है। रेड और पिंक बलुआ पत्थर से निर्मित है यह महल,जयपुर के सिटी पैलेस के किनारे पर स्थित है।

इस महल की संरचना सन 1799 में महाराजा सवाई जय सिंह के पोते महाराजा सवाई प्रताप सिंह द्वारा बनाई गई थी जो जयपुर के संस्थापक थे। राजा खेतड़ी महल की खूबसूरत स्ट्रक्चर से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने इस भव्य और ऐतिहासिक महल का निर्माण किया। इसे लाल चंद उस्ताद ने डिजाइन किया था। 

लगभग 200 से अधिक वर्षों के इतिहास के साथ हवा महल शायद जयपुर का सबसे प्रतिष्ठित स्मारक है। यात्रियों के लिए जयपुर के टॉप आकर्षणों में से एक है यह महल, जो यह दर्शाता है की इसकी अनूठी वास्तुकला कितना खास है जिसमें 953 खिड़कियां शामिल हैं। 

यदि भारत का पिंक सिटी आपके अवकाश स्थलों की सूची में है तो जयपुर में अपने होटलों से बाहर निकलने के बाद इस प्रतिष्ठित संरचना का पता लगाने के लिए कुछ समय निकाल के भ्रमण करे।

हवा महल कहां पर स्थित है?

हवा महल भारत का राज्य राजस्थान की राजधानी जयपुर(पिंक सिटी) में एक राजसी महल है। हवा महल का निर्माण 1799 में संपन्न हुआ था।

हवा महल का संक्षिप्त इतिहास

जैसा की हम जानते है की हवा महल कछवाहा राजपूत शासक महाराजा सवाई प्रताप सिंह द्वारा सन1799 में बनवाया गया था। जब महाराजा ने राजस्थान के झुंझुनू में खेतड़ी महल की संरचना को देखा तो वे इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने इस डिजाइन पर एक महल बनाने का फैसला किया। हवा महल जिसे हवा का महल भी कहा जाता है।

हवा महल के पांच मंजिला संरचना लाल चंद उस्ताद द्वारा सिटी पैलेस के विस्तार के रूप में डिजाइन की गई थी। सिटी पैलेस के किनारे से शुरू होकर, हवा महल महिलाओं के कक्षों उर्फ ​​जनाना तक फैला हुआ है। 

उन दिनों पर्दा प्रथा का सख्ती से पालन किया जाता था और शाही राजपुर की महिलाओं को अजनबियों को अपना चेहरा दिखाने या सार्वजनिक रूप से प्रकट होने की अनुमति नहीं थी। हवा महल में 953 खिड़कियां हैं जो उन्हें सार्वजनिक रूप से दिखाई दिए बिना नीचे की सड़क पर होने वाली रोज होने वाली दिनचर्या की गतिविधियों और उत्सवों की एक झलक पाने में सक्षम बनाती हैं।

हवा महल का आर्किटेक्चर 

हवा महल जो की जयपुर में है यह घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक माना जाता है जिसमें इस्लामी, मुगल और राजपूत आर्किटेक्चर शैली का शानदार मिश्रण दिखता है। इसकी गुंबददार छतरियां, फूलों के पैटर्न, कमल के रूपांकनों और बांसुरी वाले खंभे आदि सभी समृद्ध राजपूत शैली को दर्शाते हैं। 

लाल और गुलाबी बलुआ पत्थर से बना यह स्मारक अपनी तरह का अनूठा महल पिरामिड आकार का है। इसकी पांच मंजिलें हैं और यह 50 फीट की ऊंचाई तक उठती है। महल के सामने के भाग पर दिखने वाली 953 खिड़कियाँ इसे होनीकॉम्ब के छत्ते का रूप देती हैं। 

इन खिड़कियों पर असाधारण जाली लगी हुई है, महल एक शीतलन प्रभाव का अनुभव करता है क्योंकि हवा उनके जालियों के माध्यम से चलती है। नाजुक ढंग से डिज़ाइन किए गए हैंगिंग कॉर्निस हवा महल की वास्तुकला का एक और आकर्षक पहलू है।

महल के अंदरूनी हिस्सों में खंभों वाले कक्ष और न्यूनतम ऑर्नेट गलियारे हैं जो शीर्ष मंजिल तक पहुंचते हैं। आंगन पहली और दूसरी मंजिल के सामने के हिस्से की सोभा बढ़ाते हैं। निचली दो मंजिलों के विपरीत, शीर्ष तीन मंजिलों की चौड़ाई एक कमरे से अधिक नहीं है। भवन के कोर्टयार्ड के सेंटर में फव्वारे लगे हैं।

वर्तमान में हवा महल का नजारा

आज के समय में हवा महल की यात्रा जयपुर में अपनी स्थापत्य सुंदरता के कारण सबसे दिलचस्प चीजों में से एक है। इस अनूठी हिस्टोरिकल संरचना को बनाए रखने के लिए यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया ने हाथ बढ़ाया है और इस उद्देश्य के लिए इसे अपनाया है। यह भवन राजस्थान सरकार के पुरातत्व विभाग के नियंत्रण में है। 

हवा महल की जर्नी का सबसे बेहतरीन टाइम मॉर्निंग और इवनिंग के समय होता है जब सुनहरी सूरज की किरणें पूरी लाल और गुलाबी संरचना को मंत्रमुग्ध कर देती हैं।

हवा महल म्यूजियम

हवा महल के कोर्टयार्ड में स्थित एक आर्किलॉजिकल म्यूजियम है जो प्राचीन वस्तुओं, हथियारों और राजघरानों द्वारा उपयोग की जाने वाली अन्य वस्तुओं का एक अच्छा संग्रह प्रदर्शित करता है।  

हवा महल के बारे में कुछ फैक्ट्स 

  • हाल ही में पर्यटन विभाग ने शहर में रात्रि पर्यटन को बढ़ावा देने के प्रयास में हवा पैलेस के बाहरी हिस्से को रोशन किया है।
  • अन्य महलों के मुकाबले महल के सामने कोई प्रवेश मार्ग नहीं है। आपको एक दरवाजे से प्रवेश करना होगा जो इमारत के किनारे मौजूद है।
  • हवा महल की पांच मंजिलों में से प्रत्येक में एक मंदिर है। पहली मंजिल पर शरद मंदिर मौजूद है जबकि दूसरी मंजिल पर रंगीन कांच के बने रतन मंदिर हैं।

यह थी कुछ जानकारी Hawa mahal kahan hai के बारे में।