पेड़ो के बारे में

About tree in hindi पेड़ ( वृक्ष ) आइए जानते है वृक्ष के बारे में,क्या है इनकी विशेषता,कैसे इनकी ग्रोथ होती है, कैसे ऑक्सीजन देते है हमें, ऐसे तमाम चीजे पेड़ो के बारे में जानेंगे।

पेड़ | About tree in hindi

हम अन्य जीवित प्राणियों के साथ एक पारिस्थितिकी तंत्र में रहते हैं। एक पारिस्थितिकी तंत्र के सबसे स्तंभों में से एक पेड़ हैं। तमाम पेड़ और बड़े पौधे के समूह से जंगल की उत्पत्ति होती है। हरे-भरे जीव हमें सांस लेने और जीने के लिए आवश्यक ऑक्सीजन प्रदान करते हैं। 

पेड़ कार्बन डाइऑक्साइड को संसाधित करते हैं और अपना भोजन बनाने के लिए सूर्य के प्रकाश का उपयोग करते हैं। इस प्रक्रिया में वे ऑक्सीजन छोड़ते हैं जिसे हर दूसरे जानवर को जीने की जरूरत होती है। 

पेड़ अधिक लाभ प्रदान करते हैं और हमारे ग्रह को टिकाऊ बनाते हैं। पेड़ों के इस तरह के लाभों के बावजूद हम अपने मुनाफे के लिए हरे भंडार की कटाई कर रहे हैं और धीरे-धीरे ग्रह को मार रहे हैं। 

एक पेड़ हमें गर्मी के दिनों में छाया प्रदान करता है। ठंडी छांव हमें चिलचिलाती गर्मी से निजात दिलाती है ताकि हम आराम कर सकें। हम उन्हें सुनियोजित शहरों के बड़े पार्कों और सड़कों के किनारे पाते हैं। about tree in hindi

हमें ग्रामीण क्षेत्रों में कई पेड़ मिलते हैं। यही कारण है कि गांवों में हम जिस हवा में सांस लेते हैं,वह बहुत साफ होती है। पेड़ हमारे जीवित रहने के लिए आवश्यक जीवन का प्रमुख सहारा हैं। 

पेड़ की किस प्रकार परिभाषित किया जाता है?

पेड़ बड़े पौधे हैं जिनमें पत्ते का हरा हुड होता है। पेड़ में एक तना और लकड़ी से बनी शाखाएँ होती हैं। पेड़ कई सालों तक जीवित रह सकते हैं। एक पेड़ के चार मुख्य भाग हैं जड़ें, तना, शाखाएँ और पत्तियाँ। एक पेड़ की जड़ें आमतौर पर जमीन के नीचे होती हैं।

पेड़ को मुख्य रूप से कितने भागो में विभाजित किया गया है?

पेड़ों को दो प्राथमिक श्रेणियों में बांटा गया है: 

  • पर्णपाती( Deciduous)
  • शंकुधारी(Conferroues)

पर्णपाती पेड़ (Deciduous Tree)

  • पर्णपाती पेड़ को ठोस लकड़ी भी कहा जाता है, ये पेड़ प्रकार आमतौर पर शरद ऋतु में अपने पत्ते गिराते हैं।
  • पेड़ की प्रजातियों के आधार पर पर्णपाती पेड़ों में अलग-अलग आकार के पत्ते (उदाहरण के लिए, तारा, हृदय और अंडाकार आकार) होते हैं।

उदाहरणों में ओक, एल्म, मेपल, विलो,नीम,सफेदा,शीशम और गूलर आदि पेड़ शामिल हैं।

शंकुधारी पेड़ (Coniferous Tree)

  • इनमें से अधिकांश सदाबहार हैं जिसका अर्थ है कि आपके पास इन प्रकार के वृक्षों पर साल भर हरियाली रहेगी।
  • शंकुधारी पेड़ों में सुई के आकार के पत्ते होते हैं

उदाहरणों में चीड़, देवदार, स्प्रूस और देवदार,आम,अमरूद,पीपल आदि पेड़ शामिल हैं।

पेड़ किस प्रकार बढ़ते है?

जैसा की हम जानते है की एक पेड़ के तीन मुख्य भाग होते हैं जड़ें, तना और मुकुट (शाखाएं और पत्ते) और प्रत्येक पेड़ को सूरज, पानी और पोषक तत्वों का उपयोग करने में मदद करने में एक भूमिका निभाता है। जड़ें मिट्टी से पानी और पोषक तत्वों को अवशोषित करती हैं। 

वृक्षों की वृद्धि दो प्रकार से होती है। जड़ और प्ररोह के सिरे से वृद्धि जिसके परिणामस्वरूप ऊँचाई और लंबाई में वृद्धि होती है यह प्राथमिक वृद्धि कहलाती है और तनों और शाखाओं की मोटाई बढ़ाने वाली वृद्धि को द्वितीयक वृद्धि कहते हैं। about tree in hindi

पेड़ ऑक्सीजन कैसे प्रदान करते है?

पेड़ ऑक्सीजन छोड़ते हैं जब वे सूर्य के प्रकाश से ऊर्जा का उपयोग कार्बनडाइ ऑक्साइड (Carbon dioxide) और पानी से ग्लूकोज बनाने के लिए करते हैं। सभी पौधों की तरह पेड़ भी ऑक्सीजन का उपयोग करते हैं जब वे अपने चयापचय को शक्ति देने के लिए ऊर्जा जारी करने के लिए ग्लूकोज को वापस नीचे विभाजित करते हैं।

पेड़ों में दिन के समय कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करके हवा को साफ करने के जन्मजात गुण होते हैं। उनके पास सूर्य के प्रकाश की शक्ति का उपयोग करके कार्बन डाइऑक्साइड(Carbon Dioxide) को कार्बोहाइड्रेट(Carbohydrate) में बदलने की जैविक शक्ति है।  

सभी पेड़ कार्बन डाइऑक्साइड(CO2) में सांस लेते हैं और ऑक्सीजन(O2) छोड़ते हैं। 

ग्लोबल वार्मिंग में पेड़ कैसे मदद कर सकते हैं?

पेड़ पारिस्थितिकी तंत्र(Ecosystem) का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा हैं जो जलवायु और पर्यावरण को संतुलित करने में मदद करते हैं। एक जंगल में पेड़ और पौधे होते हैं जो ग्लोबल वार्मिंग(समुद्र के स्तर में वृद्धि,तापमान में वृद्धि, कोहरा ,जलवायु परिवर्तन) ग्लेशियरों का पिघलना को उलटने में मदद करते हैं जो पृथ्वी के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं।

जब पृथ्वी के वायुमंडल से ग्रीनहाउस गैस कार्बन डाइऑक्साइड के मानव-जनित उत्सर्जन को हटाने की बात आती है तो पेड़ एक बड़ी मदद होते हैं। प्रकाश संश्लेषण के माध्यम से पेड़ अपनी पत्तियों, शाखाओं और जड़ों को विकसित करने में मदद करने के लिए हवा से गैस खींचते हैं। 

पेड़ों के लाभ

  • पेड़ एनवायरनमेंट को स्वच्छ और आकर्षक बनाते हैं।
  • पेड़ हमारे वातावरण से दूषित और जहरीली कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य गैसों को अवशोषित करके हमें स्वच्छ ऑक्सीजन प्रदान करते हैं।
  • जहाँ अधिक मात्रा में पेड़ होते हैं, वहाँ ध्वनि प्रदूषण भी कम मात्रा में होता है क्योंकि पेड़ों का घनत्व शोर को फैलने नहीं देता है।
  • जहां पेड़ अधिक मात्रा में होते हैं, वहां भूमि का क्षरण नहीं होता है और इनकी सहायता से भूमि की अम्लता भी कम हो जाती है।
  • पेड़ों की सूखी पत्तियों से हमें जैविक खाद मिलती है, जिससे भूमि उपजाऊ होती है।
  • पेड़ हमें गर्मियों में ठंडी छाया प्रदान करते हैं।
  • पेड़ों के कारण हमारी पृथ्वी का वातावरण समय-समय पर बदलता रहता है, जिससे पृथ्वी का संतुलन बना रहता है।
  • वृक्षों से हमें फूल (Flower), फल (Fruits), रबड़ (Rubber), लाह (Laah), रेशम (Resham), कागज (Paper), लकड़ी (Wood), जड़ी-बूटी तथा अन्य खनिज पदार्थ प्राप्त होते हैं।
  • पेड़ अत्यधिक जल प्रवाह को रोककर बाढ़ को रोकते हैं।
  • वृक्षों के कारण ही आज हमारी वन्य संपदा सुरक्षित है।
  • पेड़ों के कारण हर जगह सही मात्रा में बारिश होती है, जिससे हमें फसल के लिए अधिक पीने योग्य मीठा पानी मिलता है।

निष्कर्ष

About tree in hindi पेड़ ही एकमात्र ऐसे प्राणी हैं जो हमें ग्रीनहाउस गैसों के स्तर में खतरनाक वृद्धि से बचा सकते हैं।  वे केवल जरूरतमंदों को छाया प्रदान कर सकते हैं। हमें ही पेड़-पौधों के महत्व को समझने की जरूरत है। हमें बंजर भूमि में वृक्षारोपण करने और औद्योगीकरण के लिए वनों के अवैध अधिग्रहण के खिलाफ खड़े होने की जरूरत है।  

हम सभी प्राकृतिक संसाधनों को लगातार कम कर रहे हैं और अगर हम रुके नहीं तो जल्द ही सूख जाएंगे। हमें बदलाव लाने की जरूरत है।  हमें सभी को जागरूक करने की जरूरत है कि जीवित रहने के लिए पेड़ कैसे महत्वपूर्ण हैं। 

यह हम हैं जो एक संचयी निर्णय ले सकते हैं और पेड़ सभी जीवित प्राणियों के लिए एक स्वस्थ ग्रह प्राप्त करने में हमारी मदद कर सकते हैं। हमे निरंतर पेड़ लगाने के लिए मुहीम चलाते रहना चाहिए। वृक्षारोपण के लिए सरकार और जनता द्वारा बहुत सारे कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

International Tribal Day : Day of the World’s Indigenous Peoples राजस्थान का कश्मीर कहा जाता है गोरमघाट झरना राजस्थान का मेघालय के नाम से जाना जाता है : भील बेरी झरना