हम भारतीय

सब कुछ हिंदी में

विश्व डेंगू रोकधाम दिवस क्यों मनाया जाता है

Vishwa dengue nirodhak diwas : हल साल पूरा विश्व 10 अगस्त को विश्व डेंगू रोकधाम दिवस के रूप में मानते हैं. यह दिवस डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी से बचने के लिए लोगो को जागरूक करने के लिए मनाया जाता हैं. 

डेंगू जैसी खतरनाक दिवस जिसे एक वैश्विक महामारी के रूप में देखा जाता हैं. डेंगू ऐसी खतरनाक बीमारी हैं जो बच्चो के साथ व्यस्क लोगो में सबसे तेजी से फैलती हैं. इस बीमारी का आज इलाज तो मेडिकल विभाग के पास खूब हैं. 

फिर भी लोगो को इसके प्रति जागरूक करने की जरुरत हैं. इस बीमारी के लक्षण भी काफी सामान्य हैं जिससे इस बात की जानकारी लेना थोडा सा मुश्किल हो जाता हैं की क्या वास्तव में रोगी डेंगू गृसित हैं या नही. 

विश्व युवा दिवस क्यों मनाया जाता हैं ?

डेंगू बीमारी के लक्षण

डेंगू बीमारी के कुछ लक्षण जो काफी सामान्य हैं. इस बीमारी के लक्षण 

  • हल्का और मध्यम सर दर्द होना और चक्कर आना. 
  • जोड़ो और मास्पेशीयो में दर्द होना.
  • शरीर में दर्द होना. 
  • तेज बुखार होना और शरीर का तेज गर्म होना. 
  • चिडचिडापन होना इतियादी डेंगू जैसी बीमारी के लक्षण हैं. 

डेंगू के केस में मृत्यु दर काफी कम रहती हैं. इस बात की तो ख़ुशी हैं की देश में इस बीमारी की पकड़ ज्यादा नही हैं. परन्तु फिर भी हमे इस बीमारी के प्रति लोगो को जागरूक करना चाहिए ताकि वे इस बीमारी से बच सके. 

डेंगू सीजन

डेंगू ज्यादातर बरसात के सीजन में ज्यादा फैलता हैं. डेंगू के बचाव के उपचार भी हैं जिसके बारे में हर किसी को जानना चाहिए. यह एक मौसमी बीमारी हैं. 

डेंगू से बचाव

डेंगू एक मौसमी बीमारी हैं जो बरसात के समय में सबसे ज्यादा फैलती हैं. बरसात के मौसम में अपने आसपास कही इकठ्ठा न होने दे और अगर कही पानी इकठ्ठा हो रखा हैं तो उसे खली करे और मेडिकल विभाग को सूचित करे ताकि वो इसमें फोगिंग कर सके. 

  • अपने आसपास अगर पानी इक्कठा हो रहा हैं तो ऐसे में उस पानी को खाली करे. 
  • अपने घर में फ्रीज, cooler इतियादी में पानी का भराव हैं तो उसे ही खाली करे. 
  • अपने आसपास साफ़ सफाई रखे और मेडिकल विभाग को सूचित जरुर करे. 

डेंगू के प्रकार

डेंगू मुख्य रूप से 4 प्रकार के होते हैं. इन चार प्रकारो के बारे में आप भी जान ले. 

  • एक किसी भी व्यक्ति के अपने जीवन में केवल एक बार हो सकता हैं और उससे वो डेंगू की बीमारी से संक्रमित होता होता हैं. 
  • इसके बार एक क्लासिक प्रकार का भी एक डेंगू होता हैं जिसमे व्यक्ति खुद – बे खुद ठीक हो जाता हैं. 
  • इन सब के अलावा एक और खतरनाक डेंगू होता हैं जो अगर किसी को हो जाए तो उसकी मृत्यु भी सकती हैं. इस प्रकार के डेंगू को हिमोरेगिक बुखार कहते हैं. 

निष्कर्ष

इस लेख में आपको Vishwa dengue nirodhak diwas in hindi के बारे में बताया गया हैं. उम्मीद करते हैं आपको हमारे दुवारा लिखित यह जानकारी अच्छी लगी होगी.